Sunday, August 3, 2008

ख्याल....

मसरूफ हो आप दुनियादारी में....

की आपको तो चाहता सारा जमाना है....

पर वो दिल केसे भुला दे आपको....

जिसका हर ख़याल आप हो....

मेरी मुस्कान देख के समझे तुम...

की बहुत खुश-मिजाज हो गया मैं इन दिनों...पर....

पलक नही भिगोते हम....

की कहीं आप न भीग जाओ...

2 comments:

Advocate Rashmi saurana said...

kya baat hai. bhut sundar rachana ki hai. badhai ho.

परमजीत बाली said...

अपने जज्बातों को बहुत सुन्दरता से पेश किया है।बढिया!