Tuesday, July 14, 2009

गुमान....

लोग कहते है....चलता हूँ मैं आजकल जरा इतराकर...
तुम ही कहो...किसे तुम्हे पाते कर गुमान नही होगा....
हर दिल की ख्वाहिश होती है...एक हसीं हमसफ़र....
पर हर दिलवाला..मुझ जेसा खुशनसीब थोड़े ही होगा....

1 comment:

Babli said...

सही फरमाया है आपने! शानदार!